कोविड प्रेशर के बावजूद हरितवाल सिटी में जबरदस्त बिक्री


जयपुर। मानसरोवर जयपुर का दिल बनकर उभरा है। एशिया की सबसे बड़ी कॉलोनी के तौर पर स्थापित हुआ मानसरोवर अब व्यापार, स्कूल, कॉलेज, शॉपिंग और उद्योग धंधों के लिहाज से हब बनता जा रहा है। ऐसे में लगातार बढ़ती आबादी ने न केवल मानसरोवर को खास तेजी दी है, बल्कि मानसरोवर के आस-पास के इलाके भी काफी पॉपुलर होते जा रहे हैं। यही वजह है कि कोविड 19 में रियल एस्टेट बाजार पर आए दबाव को मानसरोवर और इसके निकटवर्ती इलाके झेल गए हैं।

जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा अनुमोदित और रेरा द्वारा रजिस्टर्ड हरितवाल सिटी डी इन दिनों खास चर्चा में बनी हुई है। मानसरोवर के बिलकुल निकटतमक इस प्रोजेक्ट में अच्छी सेल्स बाजार में चर्चा का विषय बनी हुई है। लैंड्समिल इंफ्रास्टेट प्रा. लिमिटेड की कॉलोनी में 88 से 210 वर्ग गज के प्लॉट की बिक्री कंपनी की ओर से की जा रही है। मानसरोवर के निकट रामसिंहपुरा स्थित इस गेटेड टाउनशिप में वो तमाम सुविधाएं कंपनी से मुहैया करवाई हैं, जो एक बेहतरीन कॉलोनी के लिए हम उम्मीद करते हैं। केवल 19950 रुपए वर्ग गज की रेट में कंपनी बेहतरीन रोड, प्रॉपर बिजली की व्यवस्था, 200 फीट सैक्टर रोड अटैचमेंट के साथ बगीचे, खुला माहौल और बेहतर विकास करके प्लॉट उपलब्ध करवा रही है।

कंपनी अधिकारियों के मुताबिक यह योजना लोकेशन और माकेट के लिहाज से एक वैल्यू फॉर मनी इनवेस्टमेंट है। ऐसे में इस योजना में निवेश करने के साथ-साथ रहवास के लिए भी यह एक बेहतरीन टाउनशिप के तौर पर विकसित की जा रही है। कॉलोनी में जयपुर विकास प्राधिकरण के नियमानुसार सभी आधुनिक सुविधाओं को तो विकसित किया ही जा रहा है, साथ ही वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, ब्लॉक बाउंड्री, गेटेड एंट्री सीवरेज, पानी की पाइपलाइन, अंडरग्राउंड पानी के टैंक, डीमार्केशन, इंटरलॉकिंग टाइल्स जैसी सुविधाएं भी मुहैया करवाई जा रही हैं।

गौरतलब है कि हरितवाल सिटी डी जयपुर एयरपोर्ट से मात्र 6 किमी. की दूरी पर स्थित होने के चलते बेहतरीन रेस्पॉन्स मिल रहा है। कॉलोनी के आसपास 7-8 बहुमंजिला रिहायशी अपार्टमेंट्स से न केवल यहां बड़े विकास की संभावनाएं दर्ज की जा रही हैं, बल्कि मानसरोवर की जानी-मानी वंदेमातरम रोड से यह कॉलोनी मात्र 2 किमी. की दूरी पर ही स्थित है। कॉलोनी के आसपास एक किमी. के दायरे में बैंक, स्कूल, मंदिर सहित तमाम सुविधाएं मौजूद हैं।
Share on Google Plus

About JDA Approved

0 comments:

Post a Comment