जेडीए और नगर निगम कर रहे अवैध निर्माण को सपोर्ट


जयपुर। जयपुर विकास प्राधिकरण और नगर निगम जयपुर में अवैध इमारतों की सीलिंग में बड़े पैमाने पर घालेमेल और घूसखोरी चल रही है। लगातार जगतपुरा, मालवीय नगर, झोटवाड़ा, मानसरोवर सहित विभिन्न इलाकों में चल रहे अवैध निर्माण के मसले सामने आ रहे हैं। ऐसे में नेताओं की अधिकारियों से मिलीभगत और अवैध निर्माण को सपोर्ट करने का धंधा खासा पनप गया है।

ताजा मसले में मालवीय नगर के सत्कार शॉपिंग सेंटर को ही लें, तो अवैध निर्माण के गोरखधंधे की कहानी एक साधारण आदमी भी देखते ही समझ जाएगा। लेकिन मिलीभगत ऐसी है कि अधिकारियों ने आंख मीच ली है या विधायक ने उनकी आंखें मीच दी हैं। कुछ ही समय पहले मालवीय नगर विधायक कालीचरण सर्राफ और कांग्रेस नेता अर्चना शर्मा की इस मामले में खुल्लमखुल्ला आरोपों का सिलसिला चला था। यह विवाद इतना बढ़ गया था कि अर्चना शर्मा ने विधायक कालीचरण सर्राफ पर अवैध बिल्डिंग के निर्माण को सपोर्ट के लिए पांच लाख रुपए का आरोप जड़ा था। जिसके बाद विधायक कालीचरण सर्राफ खेमे के भी हाथ-पांव फूल गए थे और दोनों गुटों में भारी विवाद हो गया था। लेकिन दुर्भाग्य देखिए कि इस विवाद के बाद दो अवैध इमारतों में से एक को सील कर दिया गया था और दूसरी आज भी खुली हुई है। यानी जेडीए और नगर निगम अधिकारियों पर विधायक का दबाव और मिलीभगत जगजाहिर है। ऐसे में इस बात को भी खारिज नहीं किया जा सकता कि जेडीए और नगर निगम में संबंधित विभागों के अधिकारियों ने बिना घूस खाए ही अवैध इमारत को खुला छोड़ दिया होगा।
Share on Google Plus

About JDA Approved

0 comments:

Post a Comment